नकाब

पहले ही आसान नहीं था दुनियाँ के हालात समझना चेहरों पर चेहरे पहने लोगों के दिल की बात समझना। असली-नकली चेहरों का हम कर ना पाते थे हिसाब, और कयामत उस पर के अब पहन लिए सबने नकाब। देख हर इक चेहरा पहचाना, मुस्कुराने से मिली निजात लेकिन उलझन और बढ़ी है, समझ ना आए आधी बात।... Continue Reading →

Website Built with WordPress.com.

Up ↑