यूँ भी तो हो सकता है…

यूं भी तो हो सकता है उसने कहा कुछ और हो...
यूं भी तो हो सकता है वो ना काबिल ए गौर हो।

यूं भी तो हो सकता है वो मुझसे खफा न हो...
यूं भी तो सकता है ये अगली दफा न हो।

ऐसी बातें सोच सोच कर सारी रात बिता दी...
ये वो, ये वो करते-करते नाहक नींद गवाँ दी।

जाने क्या क्या सोच रहा है ऐसा कैसा मन है...
एक बात पर टिक ना पाए खुद से ही अनबन है।

यूँ भी तो हो सकता है कि सबका ही मन हो ऐसा...
मुझको अपना खास लगे, पर हो ये सबके  जैसा।

फिर तो शायद वो भी बैठा यूं ही जागता होगा...
उसके मन का घोड़ा भी बेलगाम भागता होगा।

पर यूँ भी तो हो सकता है वो ही सबसे हो जुदा ....
मुझको मेरे ही मन से अब तो, तू ही बचा ऐ खुदा। 

4 thoughts on “यूँ भी तो हो सकता है…

Add yours

  1. खूपच छान कविता
    सगळे आपल्या मनाचे खेळ
    पंण फार अस्वस्थ करणारे

    Like

  2. मुझको मेरे ही मन से अब तो, तू ही बचा ऐ खुदा।

    Bahut khoob,
    Padh ke yu laga
    Jaise mere mann ki bhavnaie
    Aapne sabdou me pirou ke apne blog me likha…

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Website Built with WordPress.com.

Up ↑

%d bloggers like this: